2020—–21

आती जाती हैं ये लहरें, सिर्फ निशां छोड़ जाती है
रेत के ऊपर हर पल नयी, कहानी ये लिख जाती है
टकराकर किनारों से, हर पल नया उठना होगा
बीस बीस के बाद इक्कीस की, इबारत गढ़ना होगा

याद रखों इसी सागर में, अमृत विष के प्याले हैं
याद रखों इसी सागर में, छुपे सुनामी छाले हैं
दिखता शांत किन्तु हृदय में, भाटे ज्वार से पाले है
अपने सीने में राज इसने, दफन अनेक कर डाले है

ठीक बीस भी सागर की इन शांत लहरों सा दिखता था
सुनामी को हृदय में अपने, दे रखा इक कोना था
ज्वार भाटे सी उठी सुनामी, नाम इसका कोरॉना है
पिया विष का प्याला सब ने, बीस का यही रोना है

अब आया है इक्कीस देखो, संग यह वैक्सीन लाया है
लॉक डाउन से जूझता सूरज, सागर से उग आया है
जो आया है इक्कीस तो अब, सब कुछ ही इक्कीस होगा
ख़तम हुए दिन जीरो के बस, अब आगे बढ़ना होगा

बढ़ते बढ़ते आगे हमको, याद यह रखना होगा
भूले ना हम बीस की भूले, यादों को सहेजना होगा
इस सागर में जानवर विषैले, थाल मोती के भी सजे
मंथन यह हमको ही करना, कैसे साल इक्कीस का सजे


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

24 Comments

  1. Anu Singla - January 1, 2021, 10:58 am

    Very beautiful

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - January 1, 2021, 7:28 pm

    वाह

  3. Geeta kumari - January 2, 2021, 9:20 am

    चित्र के अनुरूप बहुत ही सुन्दर कविता

  4. Janu Parashar - January 2, 2021, 3:56 pm

    Nice

  5. Talent in you by Tanu - January 2, 2021, 4:18 pm

    The best messageive poem of the year 2021

  6. Neeraj Agrawal - January 2, 2021, 4:50 pm

    Awesome !!

  7. Punam Agarawal - January 2, 2021, 4:52 pm

    Good one !!

  8. Neeraj Agrawal - January 2, 2021, 4:53 pm

    Great word selection, nice poem

  9. RAHUL JAIN. - January 2, 2021, 5:02 pm

    Ati sundar, wah wah

  10. Mayank Agarwal - January 2, 2021, 5:28 pm

    Amazing

  11. Karmveer Budaniya - January 2, 2021, 5:43 pm

    Bilkul nhi ibarat bhi likhi jaayegi aur saal 21 bhi sajega

  12. Nikhil Agrawal - January 2, 2021, 5:49 pm

    Bde dino baad aapki kavita aayi h koi, lekin hmesha ki tarah behatreen. Kavita ka hr ek shabd uss chitra ka अंकन kr rha h. Nice

  13. Shashi Poddar - January 2, 2021, 7:36 pm

    What a great start of new year 2021…awesome 😍

  14. nikhar agarwal - January 2, 2021, 8:46 pm

    Wow…… Gjb

  15. nikhar agarwal - January 2, 2021, 8:52 pm

    Wah wah kya baat h

  16. Nitisha Agrawal - January 2, 2021, 9:03 pm

    Good one

  17. Garima Agarwal - January 3, 2021, 11:37 am

    Very nice..

  18. Subham Agarwal - January 3, 2021, 7:38 pm

    Nice one

  19. Amit Sharma - January 4, 2021, 8:54 am

    Very nice

  20. Ramesh Agrawal - January 4, 2021, 12:06 pm

    Aapki kavita padhkar photo bnayi jaa skti h…. Awesome

  21. Karan Singh - January 4, 2021, 2:19 pm

    Grt

  22. Vikas Burdak - January 4, 2021, 3:58 pm

    Wow.. Very beautiful kavita

  23. Vikas Burdak - January 4, 2021, 3:58 pm

    Bahut hi khubsurat kavita

  24. Vikas Burdak - January 4, 2021, 3:59 pm

    Very beautiful kavita

Leave a Reply