शहीद

स्वतंत्रता दिवस काव्य पाठ प्रतियोगिता:-

कृतज्ञ देश है उन वीरों का
जिसने लहू बहाया अपना
देश की खातिर तन मन धन
सब कुछ है लुटाया अपना
बलिदान दिया है कितनी मां ने
कितनी बहनों ने है भाई खोया
आज शहीदों को नमन किया
आज देश है खूब रोया
सारी जवानी भेंट चढ़ा दी
अपनी भारत मां के लिए
दिवाली पर घर आंगन से पहले
शहीदों की चिताओं पर जले दिए
अनमोल दिया है तोहफा हमको
हम सब की आजादी का
गांधी देश के वासी हो तुम
तो कपड़े पहनो खादी का
एक प्रतिज्ञा फिर से ले लो
सवा सौ करोड़ तुम हिंदुस्तानी
अब न वतन से करने देंगे
दुश्मन को अपनी मनमानी
दुश्मन को अपनी मनमानी

– वीरेंद्र सेन प्रयागराज


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

11 Comments

  1. Pragya Shukla - August 16, 2020, 10:09 am

    जय हिंद जय भारत

  2. मोहन सिंह मानुष - August 16, 2020, 11:57 am

    सुन्दर प्रस्तुति

  3. Palakshi Rajhans - August 16, 2020, 12:38 pm

    Very nyc🙏🙏🙏

  4. Geeta - August 16, 2020, 12:42 pm

    अतिसुंदर रचना

  5. OM PRAKASH BHUSHAN - August 16, 2020, 12:55 pm

    Very nice

  6. Geeta kumari - August 16, 2020, 3:49 pm

    सुंदर भाव

  7. Pragya Shukla - August 16, 2020, 10:21 pm

    अब ना वतन से करने देंगे
    दुश्मन को अपनी मनमानी
    बेहद अच्छा संदेश दिया है आपने👏👏

  8. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - August 17, 2020, 8:16 am

    Atisunder

  9. Satish Pandey - August 18, 2020, 7:41 am

    बहुत खूब, अति सुन्दर

Leave a Reply