दोस्ती पर कविता

*दोस्ती*

*****हास्य – रचना***** कछुए और खरगोश की, पांच मील की लग गई रेस तीन मील पर खरगोश ने देखा, कछुआ तो अभी दूर बहुत है थोड़ा सा आराम करूं ना…ना वो सोया नहीं ये पुरानी नहीं, ये तो है कहानी एक नई खरगोश ने लगाया दीवार पर एक टेका उसे सामने ही दिख गया एक ठेका दो-तीन लिटिल-लिटिल पीने के बाद… खरगोश को आई, कछुए की याद कछुआ भी धीरे-धीरे , आ गया करीब खरगोश ने कहा कछुए से थोड़ी सी लिटिल-लिटिल पीन... »

दोस्ती

दोस्तों के नाम पर कुर्बान हर पल भीतर से हृदय से आवाज गूंजी है, दोस्ती तो ताकत होती है सबकी दोस्ती तो जीवन की अनमोल पूंजी है। »

दोस्ती और मुहब्बत

मुहब्बत में कभी-कभी, घर छूटते हैं मुहब्बत में अक्सर ही, दिल टूटते हैं दोस्ती की देखो, निराली ही शान है दोस्ती के सिर पे, ना कोई इल्ज़ाम है मुहब्बत के मैं, विरुद्ध नहीं, बशर्ते मुहब्बत हो शुद्ध और सही एक बार मुहब्बत, हो जाए किसी से फ़िर दुबारा भी हो, वो तो मुहब्बत नहीं है दोस्ती का रिश्ता,बड़ा ही पाक है दोस्ती के दामन पर, ना कोई दाग है एक बार ही मुकम्मल, हो जाए इस जहां में मुहब्बत ये ही क्या कोई कम... »

दोस्ती का नियम

दोस्तों से कुछ भी, छिपाते नहीं हैं यही दोस्ती का, पहला नियम है छिपाए जाएं गम, खुशी गर दोस्तों से फ़िर वो दोस्ती ही कैसी ये तो नहीं, जानते हम हैं .. *****✍️गीता »

दोस्ती

आपकी और अपनी दोस्ती साबुन व पानी की तरह हो एक दूसरे का साथ देकर अपने भी और संपर्क में आने वालों के भी। दाग -धब्बे दूर कर दें »

यही दोस्ती यही प्यार ?

रास्ते कठिन है प्यार के, फिर भी मैने हिम्मत नहीं हारा। तुम तो थोड़े ही दूर चल के कहने लगे अब मैं जीवन से हारा।। »

दोस्ती ना सही…

दोस्ती ना सही, दुश्मनी तो मत निभाओ। चार बातें बनाकर, यूं ठहाके तो मत लगाओ। यूं तो दिल सबका दुखता है, उसे और ना दुखाओ। माना तुम काबिल हो , अपने मुकाम पर। मगर मेरी काबिलियत पर , यू सवाल ना उठाओ । »

ख़ूबसूरत है दोस्ती

बहुत ही ख़ूबसूरत होती है दोस्ती, निज स्वार्थ से ऊपर होती है दोस्ती। कुछ रिश्ते मिलते हैं, हमें जन्म से, कुछ रिश्ते मिलते हैं, समाज की रीत से मगर निज चुनाव पर होती है दोस्ती । इसीलिए तो सबसे उपर होती है दोस्ती.. ……………✍️गीता…… »

याराना

🌹🌹 Friendship Day special🌹🌹 गजल:- याराना प्रेम से भी बड़ा बन्धन, सुकून आये दोस्ती में। कभी कृष्णा कभी अर्जुन याद आये दोस्ती में। अपनी जिंदगी से हार थक करके हर इन्सान, सभी परेशानियां और गम भूल जाये दोस्ती में। बना दे जिंदगी सुंदर निभाओ साथ जब दिल से यकीन करना बड़ा मुश्किल दग़ा गर कोई दे फिर से। दोस्ती है बड़े विश्वास और एहसास का बन्धन, निभाओ इसको तुम निःस्वार्थ हो विश्वास जब दिल से। मेरे मन के मंदिर मे... »

🌹🌹याराना🌹🌹

🌹🌹 Friendship Day special🌹🌹 गजल:- 🌹🌹याराना🌹🌹 प्रेम से भी बड़ा बन्धन, सुकून आये दोस्ती में। कभी कृष्णा कभी अर्जुन याद आये दोस्ती में। अपनी जिंदगी से हार थक करके हर इन्सान, सभी परेशानियां और गम भूल जाये दोस्ती में। बना दे जिंदगी सुंदर निभाओ साथ जब दिल से यकीन करना बड़ा मुश्किल दग़ा गर कोई दे फिर से। दोस्ती है बड़े विश्वास और एहसास का बन्धन, निभाओ इसको तुम निःस्वार्थ हो विश्वास जब दिल से। मेरे मन के मंदि... »

दोस्ती

तू दोस्ती करेगा पर एक शर्त मेरी, जब भी मैं हार बैठूँ तू साथ ही रहेगा। आ दोस्त आ गले मिल तेरे बिना मैं सूना, तेरा है दर्द मेरा चिंता न कर मैं हूँ ना। »

दोस्ती

ना गम है ना दर्द है जो बिताया दोस्तों के साथ वो ही सुनहरा वक्त है ना है कोई खून का रिश्ता फिर भी निभाते ये दिलवाले है एक दूसरे में खुश रहते ये मस्त मतवाले है चाहे दिन हो या रात हो कोई दुःख लगा ना पाए हाथ अगर दोस्तों का साथ हो कई सफल कहानियो के पीछे दोस्तों का भी साथ होता है जरुरी नहीं की हर बार औरत का ही हाथ होता है दोस्तों के बगैर जीना भी क्या जीना वो दोस्त ही क्या जो ना हो कमीना ज़िन्दगी बीत जाती... »

दोस्ती

कभी बुलाये प्यार से कभी बुलाये मजाक से ज़िन्दगी की हर घडी ये साथ देती है दोस्ती होती ही ऐसी है दिल होवे गम में तो ये बात करे नरम में छोटी ख़ुशी में भी पार्टी मांगे जमके मूड चाहे जैसा हो ये मज़ाक करती है दोस्ती होती ही ऐसी है किसी से हुई मारपीट हो किसी ने कर दिया चीट हो ये उसको भी पछाड़ देती है दोस्ती होती ही ऐसी है ये ना बुलाये कभी नाम से दूसरा उड़ाए मजाक तो गया वो काम से हर बात में ये पास होती है दोस्... »

सच्ची दोस्ती सच्चा प्यार (भाग -२)

(आपने अगले पेज में पढा कि, अमित अपनी उलफत की दास्तां अपने दोस्त सुरेश को सुनाया। क्योंकि, अनिता के प्यार में वह पागल हो गया था। सुरेश अमित को किस तरह सही रास्ते पर ला कर खड़ा किया। आगे पढिए—-) ——————————– सुरेश -“वह तुम्हारा अमानत नहीं है। अपने को संभालो अमित। इस संसार में लड़कियां उसे ही चाहती है जिसके पास दौलत और गुण ह... »

सच्ची दोस्ती सच्चा प्यार(भाग-१)

अनिता नाम था। देखने में साँवली सलोनी। उसकी आँखें किसी गहड़ी झील से कम नहीं था। उसकी मुस्कान व अदा का क्या नाम दें, मेरे पास शब्द ही नहीं है। कुदरत ने केवल उससे गोरा रंग ही चुराया था। चंचल स्वभाव के कारण ही अमित उसे कब कहाँ क्यों और कैसे दिल दे दिया पता तक नहीं चला। वह हमेशा अमित के संग हंसी मजाक, लड़ाई झगडा कर लिया करती थी। कभी कभी एक दूसरे को देखना तक पसंद नहीं करते थे। दो तीन दिन बाद फिर एक दूसर... »

दोस्ती

फूलों की खुशबू की भाँति महक जाए जीवन की डाली तारों की चाँदनी की भाँति रोशन हो दुनिया तुम्हारी सूरज की तेज़ की भाँति प्रकाश ही प्रकाश हो जीवन मे तुम्हारी नीले अम्बर की चादर की भाँति रंग भरी हो दुनिया तुम्हारी कृष्णा सुदामा के जैसी हो अपनी दोस्ती मेरी प्यारी।। »

दोस्ती से ज्यादा

hello friends, कहने को तो प्रतिलिपि पर ये दूसरी कहानी है मेरी लेकिन सही मायनो मे ये मेरी पहली कहानी है क्योकि ये मेरे दिल के बहुत करीब है चलिये आपका ज्यादा वक्त जाया नी करते और कहानी शुरू करते है        आज मै बहुत खुश हू और वजह भी जायज है यार आखिर इतने वक्त बाद घर वापिस जो जा रही हू  5 साल बाद अपने देश India वापिस जा रही हू, हाँ क्यों India मेरा घर नही हो सकता क्या मेरे लिए तो India ही मेरा पहला घ... »

दोस्ती

चलो थोडा दिल हल्का करें कुछ गलतियां माफ़ कर आगे बढें बरसों लग गए यहाँ तक आने में इस रिश्ते को यूं ही न ज़ाया करें कुछ तुम भुला दो , कुछ हम भुला दें कड़ी धूप में रखा बर्तन ही मज़बूत बन पाता है उसके बिगड़ जाने का मिटटी को क्यों दोष दें कुछ तुम भुला दो , कुछ हम भुला दें यूं अगर दफ़न होना होता ,तो कब के हो गए होते सिल लिए थे कई ज़ख़्म हम दोनों ने , तब जा के ये रिश्ते आगे बढें कुछ तुम भुला दो , कुछ हम भुला दें... »

दोस्ती

दोस्ती ऐसा, जैसे खुदा की परस्तिश। दोस्ती में है, बेइंतिहा प्यार की कशिश। दोस्तों की दोस्ती पे है कुर्बान ये जान, हमें अज़ीज़ हैं, अपने सभी मोनिस। देवेश साखरे ‘देव’ परस्तिश- पूजा, मोनिस- दोस्त »

दोस्ती

Mam दोस्ती ही तो है एक ऐसा रिश्ता है जो जिंदगी के एक रंग में भी कई रंग दिखाता है । वरना बिना दोस्तों के रंगीन जिंदगी भी बेरंग सी नजर आती है ॥ Mam आपकी सच्ची दोस्ती से बढ़कर इस दुनिया में कुछ कहाँ है । आप जैसा एक दोस्त सच्चा है आप जैसा तो अपना सारा जहाँ है ॥ आप साथ हो मेरे तो डर किस उड़ती चिड़िया का नाम है । मस्त- मस्ती में बस हर दम खिलखिलाने का मेरे काम है ॥ जब हो कोई tension या किसी problem से हो... »

दोस्ती

दोस्ती

*** दोस्ती हो तो ऐसी कि उसके मुक़ाबिल पुश्तैनी दुश्मनी भी फ़ीकी पड़ जाये…. दोस्त के बिना रहा न जाये अगर दोस्त मिल जाए तो कुछ और न भाये…. **** @deovrat 15.09.2019 »

दोस्ती

दोस्ती ईमान है, मजहब है, खुदा है, ना ऐसा कोई रिश्ता, सबसे जुदा है। दोस्ती दवा है, दुआ है, जिंदगी है, डूबते जिंदगी की कश्ती का नाखुदा है। दोस्ती प्यार है, तकरार है, ऐतबार है, ना टूटने देंगे एतबार यह वादा है। दोस्ती परस्तिस है, कशिश है, अज़ीज़ है, यह बेहिसाब, न कम न ज्यादा है। दोस्तों की दोस्ती पे कुर्बान ये जहां है, अटूट हो दोस्ती ये ‘देव’ की दुआ है। देवेश साखरे ‘देव’ परस्ति... »

दोस्ती

यह दोस्ती अनमोल है बेजोड़ है यारों सुनो, तोहफा है भगवान का यारों सुनो, दोस्ती हसीन है महजबीं है यारों सुनो। बांधी हुई एक डोर है यारों सुनो। गमो को पीछे छोड़ दें है वो दवा यारों सुनो। दुख दर्द को जो दे भुला यारों सुनो रोशन जहां उन सब का है एक दोस्त भी जो सच्चा है , यारों सुनो। निमिषा सिंघल »

ये दोस्ती

मेरी दोस्ती पर लिखी ये कविता, दोस्तों को समर्पित ये दोस्ती अल्हड़पन के लंगोटिये, ५० साल से साथ चल रहे हैं दोस्ती की किताब में रोज़, नये अध्याय लिख रहे हैं हमारी दोस्ती जगह, जाति, धर्म, वंश से अनजान है विद्वानों की फौज का जीवन में अहम् योगदान है सभी एक दूसरे की शान है, आधार जैसी पहचान है सब दोस्त जब तक साथ है, हर मुश्किल आसान है दो हज़ार का पता नहीं, कभी दो रूपए को लड़ते थे खाई में धकेल कर, बचाने भी खु... »

दोस्ती

छोटी सी ख़ता पे दोस्ती तोड़ दे, रिश्तों के समन्दर का जो मुँख मोड़ दे, उम्मीदों पर टिकी हुई दुनियाँ छोड़ दे, वो सम्बन्ध ही क्या जो बन्धन छोड़ दे।। RAAHI »

दोस्ती मे कीमत को ढॅुढते देखा

रेत की जरूरत रेगिस्तान को होती ! सितारो की जरूरत आसमान को होती!!! आप हमे भुल जा कोई गम नही , मै लोहा हूँ मुझे सोना की जरूरत नही होती। मुझे तो मालुम था जब तक खुशबु रहे तब तक मक्खी भी ना साथ छोड़ेगी। सफर दोस्ती का कभी खत्म ना होगा। दोस्त मेरा प्यार कभी खत्म ना होगा।। लेकिन जहाँ मिले सोना(औकाद) वाला साथी तो छोड़ देना (लोहा) औकाद वाला दोस्त का साथी। क्योकि लोहा तो हर मोड़ पर मिल जाएगा, लेकिन सोना तो क... »

दोस्ती मे कीमत को ढॅुढते देखा

रेत की जरूरत रेगिस्तान को होती ! सितारो की जरूरत आसमान को होती!!! आप हमे भुल जा कोई गम नही , मै लोहा हूँ मुझे सोना की जरूरत नही होती। मुझे तो मालुम था जब तक खुशबु रहे तब तक मक्खी भी ना साथ छोड़ेगी। सफर दोस्ती का कभी खत्म ना होगा। दोस्त मेरा प्यार कभी खत्म ना होगा।। लेकिन जहाँ मिले सोना(औकाद) वाला साथी तो छोड़ देना (लोहा) औकाद वाला दोस्त का साथी। क्योकि लोहा तो हर मोड़ पर मिल जाएगा, लेकिन सोना तो क... »

दोस्ती

दोस्ती का अजब सा किस्सा है दोस्त जीवन का अहम हिस्सा है । स्वार्थ का नामोनिशाँ तक है नहीं , जन्म जन्मों का अमर रिश्ता है । प्रिय मित्रों वसंती सवेरे की सरस. घड़ियों में सपरिवारसहर्ष ,मंगलकामनाएँ सहर्ष स्वीकार करें । आपका अपना मित्र जानकी प्रसाद विवश »

दोस्ती आपकी इक तौफा थी हमारे लिए

दोस्ती आपकी इक तौफा थी हमारे लिए। कद्र हमसे ना हुई,जो जुदा इस तरह हुए। हमने भी तो कुछ ,ज्यादा नहीं माँगा था आपसे। इतना सा त्याग कर सके ना आप हमारे वास्ते। महफिल म़े कद्र हुई ना हमारे ज्जबात की। आँखों में आँसू जम गये जब बिछुडने की बात की। दिल में हुआ अँधेरा ,ना कोई रोशन चिराग था, तुम अपनी रहा चल दिये, हम राह देखते रहे। जब हँस रहे थे चाँद तारे खुले आकाश म़े, तब रो रही थी आँखे हमारी तुम्हारी याद में।... »

दोस्ती एक प्यार और भरोसे का रिश्ता

सुख-दुख के अफसाने का, ये राज है सदा मुस्कुराने का, ये पल दो पल की रिश्तेदारी नहीं, ये तो फ़र्ज है उम्र भर निभाने का, जिन्दगी में आकर कभी ना वापस जाने का, ना जानें क्यों एक अजीब सी डोर में बन्ध जाने का, इसमें होती नहीं हैं शर्तें, ये तो नाम है खुद एक शर्त में बन्ध जाने का, ये तो फ़र्ज है उम्र भर निभाने का दोस्ती दर्द नहीं रोने रुलाने का, ये तो अरमान है एक खुशी के आशियाने का, इसे काँटा ना समझना कोई, य... »

दोस्ती प्यार का मीठा दरिया है

आओ, मुझमें नहाओ, डूबकी लगाओ प्यार का सौंधा पानी हाथों में भर कर ले जाओ। आओ, जी भर कर गोता लगाओ, मौज-मस्ती की शंख-सीपियाँ जेबों में भर कर ले जाओ। दोस्ती का दरिया गहरा है, फैला है इसमें नहीं तैरती धोखे की छोटी नौका कोशिश की तो बचने का नहीं मिलेगा मौका। – Puneet »

दोस्ती

आज फिर एक साथी मुझे छोड़कर चला गया आँखों को रुलाकर चला गया और होंठों को हँसा कर चला गया पूछ बैठा कि नाराज तो नहीं हो जाहिर भी कैसे करता दोस्त था अपना जाते -जाते “अपना ख्याल” रखना कहकर वो फिकर जताकर चला गया चेहरे को मुस्कुरा कर चला गया और हाथों को मिला कर चला गया जाने अनजाने में ही सही एक रिश्ता बनाकर चला गया खुद बिखरा हुआ था अन्दर से मुझे दुनिया हसीन बताकर चला गया ………... »

अंधेरों ने निभायी दोस्ती हमसे

अंधेरों ने निभायी दोस्ती हमसे उजालो से कही ज़्यादा हम्से …… यूई »

उजालो से दोस्ती ना हुई

अंधेरों सी हमें नफरत ना थी हाँ उजालो से दोस्ती ना हुई …… यूई »

बचपन के दोस्त और दोस्ती

भूलाएँ भी ना कभी है भूलती बचपन के दोस्त और दोस्ती ज़िन्दगी थी जिनमें ख़ुद हँसती ……. यूई »