“शौक-ए-दीदार” #2Liner-59……

ღღ__इबादतगाह भी जाऊं तो, तुझे ही ढूँढती हैं नज़रें;
.
शौक-ए-दीदार ने तेरे, मुझे काफ़िर बना दिया !!…..#अक्स
.
12742256_10153733753035617_3521830817929951295_n

Related Articles

दिल की बात

दिल  का मंदिर वीरान  है , तेरी  तस्वीर  लगा  लूँ , बैठा  रहूँ  बस  सजदे  में  , तुझे  वो  देवता  बनल  लूँ , परवाह  नहीं …

Responses

New Report

Close