“सुकून” #2Liner-44

ღღ__कब तलक भटकोगे आखिर, महज़ सुकून की तलाश में;
.
ये वो शै है “साहब”, जो शायद तेरे नसीब में ही नहीं !!……‪#‎अक्स
.
12553000_1643667765885279_9169556181459061932_n

Related Articles

Responses

New Report

Close