Antariksha Saha, Author at Saavan's Posts

घर बंदी

कोई सोचता है की आज पनीर कल गोभी की सब्जी खाऊंगा कोई सोचता है की कल परिवार का पालन कैसे करूँ कोई कहता है हैंड सैनिटाइजर इस्तेमाल करना है और किसी को साफ पानी और साबुन ही मोहिया नही होती कोई सब्जियों को जमा करने की होड़ में है किसी को भूखा सोना पढ़ रहा है इस घर बंदी के मायने अलग है हम सब मे »

दूर

कुछ रिश्ते साथ होने के अहसास से बनते है चाहे वोह इंसान कितना दूर ही हो »

कोरोना पढ़ एक कोशिस लिखने का

जो लोग आप की ताकत है जीवन के भाग्दौर के चलते समय नहीं दे पाते है अब घर बंद के चलतेी उनके साथ जीने का मौका दे रही है इस डर के माहौल में बस अपनो के साथ मौत भी आ जाए तो कोई खलिश नहीं »

इज़हार

इज़हार ना हो वोह इश्क़ का जो हम तुझसे करते है कुछ रिश्ते बेज़ुबान ही अच्छे है »

होली का रंग बस लाल है

आज की होली का रंग बस लाल है यह खून है या गुलाल है दिल वालों का शहर आज वीरान है लोगों के पागलपन देखों रोटी कीमती और सस्ती अभी जान है मौत पर आज तुम्हारे धर्म पर राजनीती होती है हिंदु मरता है या मुसलमान कोई नहीं देखता मरता है तोह सिर्फ इंसानियत जिसने खोया वही जाने अपनो को खोना क्या होता है शासनतंत्र के लोग जो भड़काते है उन्हें पता है निष्पक्ष जांच इस देश में मज़ाक बन चुकी है ना रोज़गार है ना मुलभुत अव्य... »

रूठा ना कर

ऐसे रूठा ना कर की मनाने में उम्रे निकल जाए ज़िन्दगी भर के फासले तो हम तोह तय कर लेंगे खौफ बस इस बात का है मौत के बाद का रास्ता पता नहीं »

किस बात की आज़ादी

देश स्वाधीन है तब किस बात की आज़ादी यह चांदी के चमच्च ले के जन्म लेने वाले क्या समझेंगे होते अगर दलित या आदिवासी के बेटे तोह समझ आती तुम्हारे मंदिरों में हमें घुसने न देते मिड डे मील में हमारे अलग लाइन में बैठते तोह समझ आती हमारी आज़ादी क्या है जिन आदिवासियों पढ़ अंग्रेज़ हुकूमत ना कर सके उन्हें उनके देश के लोगों ने प्रकितिक संसाधनों पाने की होड़ में विस्तापिथ करनें की चक्रव्यूह रोज़ रचते जा रहे है यह आ... »

एतराम

आज भी शाम है हाथ में जाम है दिन बदलने का आज भी तुझ पर एतराम है »

ख़ुदा

सब को बाट रहा है खुशियां खुदा एक मेरा ही घर सुना रह गया ऐसी बेरुखी क्यों जवाब सबको नहीं मिलता इस लिए तोह सिर्फ़ फरियाद का दामन छोड़ तोह नहीं सकते »

कॉर्पोरेट दुनिया

मुझमे थोड़ी सी अच्छाई, शायद बाकी है इस लिए ठोकरे राहों में बेसुमार है मुझमे तेरी पड़छआई शायद बाकी है की आज भी टिका हुआ हूं जीवन के इस चक्रव्यू फसते जा रहा हूँ कौन दोस्त और कौन शत्रु में भौचक्का सा हो रहा हु उम्मीद की लौ धुमिल सी दिख रही है ज़िंदा हु क्यों की तेरे साथ होने पे ऐतबार है राजनीति आफिस की रास ना आती हम मज़दूर है सतत संग्राम ही हम को भाती »

उम्रे

हमने उम्रे गुज़ार दी तेरे इंतेज़ार पर तुझे आती है क्या याद कभी मेरे प्यार पर हमने फासले मिटा तेरे ऐतबार पर पर तुझसे एक कदम साथ चला ना गया »

ज़िन्दगी

हम चुप और अकेले रहते है इसका मतलब यह नहीं हम दुखी है हमने अक्सर लोगों से घिरे हुए को अंदर हीअंदर घुटते देखा है »

कभी ना भेजा गया खत

दोस्त नहीं अब हम दूर है कही तू किसी और की बाहों में मेरा भी नसीब चल पड़ा है किसी और के साथ लोग कहते है पहला प्यार भुलाया नहीं जाता हम कहते है भूलना भी क्यों है तब हम नासमझ थे वही दौर की यादें काफी है पछतावा नहीं है बस वोह हसीन यादें है दोस्ती थी गलत होगा अगर कहूँ नहीं है आज भी कभी अचानक मिल गए तोह एक जिजक सी रह जायेगी शायद अजनबी बन के नज़रअंदाज़ कर देंगे आज भी यह सवाल है प्यार न सही एक दोस्त की तरह क... »

बदनाम हो गए

हम बदजबान थे बदनाम नहीं ईमान थी तू बस यह गलती कर बैठे »

Smriti

Amar randhe misse gechey nil Tomar smriti ajo amaleen »

आयत

मेरी आयत है तू जितना पढ़ू उतना खो जाता हूँ काश इतनी सिद्दत से पढ़ा होता तोह अव्वल आ जाते »

मोहब्त

किसी से इतनी भी मोहब्त ना कर की सिर्फ तू ही सौगात भरता जाए मै से हम की दुरी दोंनो को तय करना है »

गया था उस गली

गया था उस गली जहा से निकाला गया था मोहब्बत थी इस लिए चुप था तेरे हर सितम का जवाब मौजूद था यह तोह तहज़ीब आरे आ गया »

विप्लब

जनता के बारूद को आग से मत ललकार शमा को बुझने ना देंगे ज़ुल्मी रात जितनी भी कोहराम मचाए माना विपक्ष धनवान बलवान है पर इतिहास साक्षी है जब भी सब जन विप्लब का रास्ता लेते है उनके एक आवाज़ ही तख्तता पलट करने मे शक्छम होती है »

शिक़ायत

खुदा से शिकायत हो तोह कभी गरीबों की बस्ती जाओ जनाब कितने खुशनसीब हो पता चल जाएगा »

नव वर्ष की हार्दिक अभिनंदन

जनवरी सपना दिखाती है दिसंबर गलतियां अपने गलतियों से सीख और आगे बर अपने सपनो पर नव वर्ष की हार्दिक अभिनंदन »

तेरा दीदार हुआ

मुदातों बाद तेरा दीदार हुआ बात पलछिन की थी जो कब से कहना था पर कब वोह बात अपना महत्व खो चुकी थी पता ना चला शायद वक़्त सबसे अच्छी दवा होती है »

तेरा दीदार हुआ

मुदातों बाद तेरा दीदार हुआ बात पलछिन में थी जो कब से कहना था पर कब वोह बात अपना महत्व खो चुकी थी पता ना चला शायद वक़्त सबसे अच्छी दवा होती है »

NRC

Tomar gharey mangsho bhat Amar paat e panta bhat Tomader sabar susama ahar Amar bari drabay muleyer haha kar Tomar bari bilash bahul Amar kure ey sambal Tor theke kichu chaini sudhu cheye chilam sadhin bhabe bachar adhikar Setao kere niley »

गम है तोह

गम है तोह ज़िन्दा है हम उम्मीदें कम है तोह किसी तरह खुश है हम कोई बरी खुशी नहीं चाहिए भगवान अब तोह इस की आदत सी हो गई लोग कहते है की वक़्त बदलता है अपना तोह कब से एक सा ही चल रहा है »

बाज़ार

मल्टीनेशनल कंपनियों के लालच से बचों भाइयों यह बे ज़रुरत की चीज़ों से आपका घर भड़ देंगे लोन और क्रेडिट कार्ड की लालच से बचों भाइयों इनसे घर उजड़ते देखा है मैंने खुदा ने जैसा भेजा है उसी में खुश रहो चार दिन में आपका पॉकेट साफ हो सकता है पर चेहरा गोरा नहीं खूबसूरती देखने वाले कि आँखों में है तन से ज्यादा मन में है दुनिया का सबसे धनी व्यक्ति जेफ बेसोस गंजा है इस से पता चलता इस गंजेपन की कोई इलाज नहीं ज़रूर... »

एक तरफ़ा

कहना था क्या, क्या कह गए दिल मैं जो था लब पे आते आते रुक गए इस वाकये को हुए ज़माना हो गया पर लगता है कि कल ही हुआ सोचता था की तू न मिले तोह ज़िन्दगी खत्म पर देखो ज़िन्दगी के मायने बदल गए समय का फ़ितूर देख तेरा यह loser आज अपनी दुनिया के मुकाम में पहुँच चुका है »

मेरा प्यारा देश हिन्दुतान

जो हल जोते फसल उगाये उसे उसकी किमत नहीं मिलती जो मजदुर उत्पाद बनाय उसे उसकी कीमत नहीं मिलती भूख और लाचारी का ऐसा आलम है अब जान सस्ती है रोटी नहीं जात और धर्म का ऐसा टॉनिक खिलाया जाता है कि किसी बच्ची या कोई व्यक्ति मौत में धर्म नज़र आता है महात्मा को मारने वाले की पूजा करने वाले उन्ही के नाम पर डींगे हाँकते है देश में बेरोज़गार बर रहे है पर नेताओं के आम खाने के तरीके सुर्खिये बटोरते है व्यक्ति के क्... »

मुश्किल ए ज़िन्दगी

मैंने ज्यादा किताब पढ़ा नही पर मुश्किल ए ज़िन्दगी ने बहुत कुछ सीखा दिया »

एक तरफा प्यार

पहले तुझसे बात करने से पैर कॉप ते थे लैब थर थरा उठते थे पर कभी तुझे बोल ना सका दिन तेरे दिदार की चाहत में होती थी हर किसी से मुस्कुराहट से बात होती थी पर कभी तुझे बोल ना सका इस एक तरफा प्यार की ताकत को कम ना समझो साहब यह प्यार बट ता नहीं यह पूरा होता है इसमे खोने का दर्द है पाने की आस है इस पाने की आस में ज़िन्दगी बर्बाद ज़ीद पे आजाओ आबाद हो जाती है »

कामियाब इंसान

महफ़िल में मेरे बहुत है पर तेरे जैसा कोई नही मुफलिस सी ज़िन्दगी में एक तेरा ही सहारा था खुदा ने उसे ही छीन लिया ज़िन्दगी के कुछ पल जो खुशी के थे उसी में तेरा शुमार नहीं खुद को ख़ुदग़र्ज़ सा महसूस होता है जब खाना बहुत है तब तेरे साथ बाट कर खाने की याद मे दिल रोता है ज़िन्दगी में सारे आरे टेरे काम किये पर जब कुछ बने तोह तब सबसे दूर हो गए इस कामयाबी का क्या करूँ मज़ा तोह इसे पाने के सफर में आना था »

नज़्म

नज़्म थी तेरी बरसात वाली अब तोह इंतेज़ार में उसी नज़्म का सहारा है फासले बन गए उन नज़दीकियों में अब तोह याद में उसी का ही सहारा है साद में तेरे मै बरबाद हो गया बरसात के इन दिनों में बस कभी आँखें नम हो जाती है »

रास्ते

तूने चुना है वो रास्ता जो तेरे लिए बना है पर कभी किसी मोड़ मे मुलाकात हो तोह मुस्कुराना तोह बनता है आखिर कभी वादे किए थे की साथ चलना है »

बाप

बाप जैसा भी हो गरीब हो या अमीर एक बच्चे के सपनो का आशियाना उसी से है »

नील कंठ

नीले रंग से यह कैसा खुमार नील कंठ तुझसे यह कैसा प्यार आदी योगी शिव शम्भू भांग धतूरा से सज्जित तुझपे यह जान समर्पित नंदी बैल और भूत साथ तुम्हारे दुर करती पीर हमारे जय हो शिव शम्भू जय हो शिव शम्भू हमारे »

खुदा

तुझसे सवाल बहुत लोग करते है पर किस की फ़रियाद कबूल होती है उसका पता नहीं जब टूट के बिखर रहा था तब तू कहा था »

रिस्ता

तेरा मेरा रिस्ता हैं क्या अपनो सा किस्सा है क्या क्यों इतना अपना सा लगता है तू अनजान शहर में इतना अपना सा लगता है तू »

रास्ते तेरे वास्ते

ये पहाड़ ये वादियाँ ये टेरे मेरे रास्ते किसऔर जाना है किस के वास्ते बस चलते रहना है खुद की तलाश में ज़िन्दगी किस और जा रही उसका पता नहीं राहगीर है तोह चलते रहना है बसेरे कई है पर घर नहीं लोग कई है पर तेरे जैसा कोई नहीं »

खुदा

फरियाद कबूल ना हो तोह क्या तेरे होने पे तेरे वचनों से सवाल उठाना चाहिए बचपन से ही सिखा है समझना रटने से बेहतर है लोगों का काफिर कहना भक्त से बेहतर है »

आज़ादी

तुमको यह आज़ादी मुबारक हो हमे तोह तेरे प्यार ने गुलाम बना रखा है कहने पे हम आज़ाद है पर तेरे जुदाई के डर ने पिजरे में रोक रखा है ख्वाब तोह आज भी बहुत है पड़ पता ना चला कब पर काट लिए गए दो वक़्त की रोटी सुखी सब्जी का स्वाद इतना है की ना पुछो आज़ादी कही बेसुद सी खड़ी हँस रही है »

तेरे जाने के बाद हुआ

तेरा जिक्र बेखयाली में हुआ मुझे फ़िक्र तेरे जाने के बाद हुआ मुझे मोह्बत थी तोह तुझसे पर अहसास तेरे जाने के बाद हुआ »

आखिर खुश तोह हो ना तुम

आखिर खुश तोह हो ना तुम कभी यह ही मायने रखा करती थी किताबों के बीच वोह सुखी गुलाब आज भी बहुत कुछ कहती है किस्मत ने खिंची कैसी यह डोर मै यहा और तुम कहा हो गए अपनो मे तुम्हारा शुमार होता था पर अब तुम कब पराए हो गए पता ना चला »

रात

रात को जगने वाले हर कोई आशिक नहीं होता साहब कुछ को अगले दिन रोटी की फ़िक़्र होती है »

आज़ाद है

तुम मेरे ज़िन्दगी खरीद सकते हो पर ख्वाब तोह आज़ाद है तुम मेरे तन को गुलाम कर सकते हो पर लब तोह आज़ाद है तुम मुझे मौत दे सकते हो पर सोच तोह आज़ाद है यह सोच आने वाले नस्ल मे सैलाब लाएगा मेरे नस्वर देह के जलने पे हज़ारों शहीदे मादरे वतन लाएगा »

वक़्त

वक़्त का क्या है कट जाता है जनाब जिस वक़्त पर तुम्हे गुरुर है वोह भी कट जाएगा »

दुश्मन

तुम लोगों से अच्छे दुश्मन है कम से कम दोस्त होने का दावा तोह नहीं करते »

गुरुर

इतना गुरुर ना कर अपनी खुबसुरती पड़ यह तोह उम्र के साथ चला जायेगा जितना उस खुदा ने प्यार और शिद्दत ने तुझे बनाया काश उतना अच्छा दिल दिया होता तोह इतनी ज़िंदगियां बर्बाद ना होती »

अधूरी सी कविता

तेरे जाने पे खुद को समेट लिया था सोचा था ज़िन्दगी खत्म है ना नींद थी ना चैन था इश्क़ इबादत थी कभी ना रैन था बात दिल की लफ़्ज़ों में थी पर लब पे खामोशी सी थी सच कह रहा तेरी कसम आज भी सपनों मैं तेरी राह तकता हूँ ज़िन्दगी के और कुछ पल खुदा ज़रूर लिखता तोह उसका क्या बिगड़ता मन के किसी कोने में आज भी मुलाकात की उम्मीद रखता हूँ »

मौला

साद और बर्बाद भी हुआ मौला प्यार भी किया नफरत भी किया मौला गुनाह भी किया मौला शफा भी किया अंत में रुका जहा तोह पिटारा खाली था जो कमाया वोह रह गया मौला तू कही भी नहीं दिखा मौला बस लोग थे गिने चुने हर बंदे मै तेरा अक्स है शायद और मै मन्दिर मस्जिद तुझे छानता फिरा काश कुछ पल होते कुफरत के होते कुछ लोगों का भला भी हम करते मौत के बाद का पता नहीं कुछ लोगों के चेहरे की मुस्कान की वजह बनते कुफरत-क्रूसेड साद... »

गम है तोह

गम है तोह रो ले चेहरा पढ़ के दिल का हाल जाने वाले अभी कहा बनते है »

Page 1 of 3123