Aman Kumar Shastri's Posts

आजादी

सुभाष,भगत,आजाद ने, दे दी हमे आजादी ! वीरो के कुर्बानी रंग लायी, वन कर देश की आजादी !! अंत हुआ अत्याचारो के अत्याचार, टूटा गरूर गद्दारो के ! धरती भी झूम उठी वर्षो बाद, उन्हें मिली जो आजादी !! धूम मचाया रंग जमाया, गद्दारो को खूब नाच नचाया ! लाखों जुल्म सह के भी, त्यागे न हम अपनी आजादी !! गद्दारो को क्या खबर थी, कब टूट पड़ेगे हम उन पर ! हम सब के नस-नस में, लहू बन गयी थी आजादी !! लहू को हमने समझ कर पा... »