Gaurav Srivastava's Posts

Kisan ka samman khalistani beiman

तुम खालिस्तानी हो या पाकिस्तानी उतारा सेना को तो पड़ जाएगी भारी सब्र ठहरा है इम्तिहान मत लेना खून बहे तो फिर किसान आंदोलन मत कहना पुलिस की जान को क्या तुमने समान समझा है तलवार से खेल रहे हो क्या इकलौता औजार समझा है उठानी अगर बंदूक पड़ गयी तो हमने भी जमीं नहीं शमशान समझा है किसानों को नमन करो खालिस्तानी का दमन करो »