“चिड़िया”

“चिड़िया”
चीं चीं करती चिड़िया आती
अम्बर ऊपर घोसला बनातीं |
पानी जहां पर वहाँ मडरातीं
औ जमी से उड़ -उड़ जाती |
Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. Panna - November 19, 2016, 8:20 pm

    bahut ache sir

    • Sukhmangal - July 30, 2019, 6:10 am

      हार्दिक अभिनंदन आभार Panna replied जी

  2. Sridhar - November 20, 2016, 9:32 am

    Anupam

    • Sukhmangal - July 30, 2019, 6:11 am

      हार्दिक आभार अभिनंदन Sridhar replied जी

Leave a Reply