दामिनी

सावन की काली रातों में
उमड़ घुमड़ जब दामिनी दमके
पट खोलो अंतर् मन के

-विनीता श्रीवास्तव(नीरजा नीर)-

Related Articles

मेघा उमड़ -घुमड़ कर आए

देखो बरस रही ठंडी फुहार, बदलियां भर आई। काले-काले मेघा उमड़ घुमड़ रहे, गरज गरज कर शोर सुना रहे, फिर दामिनी तड़की आया झंझावात, बदलियां…

Responses

New Report

Close