मर गई आत्मा

मर गई आत्मा ,शरीर कहने को ज़िंदा है
पंछी मन का उड़ गया ,आँखों में परिंदा है
राजेश’अरमान’

Related Articles

Responses

New Report

Close