मुक्तक

हर शख्स जमाने में बदल जाता है!
वक्त की तस्वीरों में ढल जाता है!
उम्मीद मंजिलों की होती है मगर,
गमों की आग से ख्वाब जल जाता है!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

Related Articles

#‎_मेरा_वाड्रफनगर_शहर_अब_बदल_चला_है‬

‪#‎_मेरा_वाड्रफनगर_शहर_अब_बदल_चला_है‬ _______**********************__________ कुछ अजीब सा माहौल हो चला है, मेरा “वाड्रफनगर” अब बदल चला है…. ढूंढता हूँ उन परिंदों को,जो बैठते थे कभी घरों के…

Responses

New Report

Close