ज़िंदगी कभी गूंथे हुए

ज़िंदगी कभी गूंथे हुए आटे की तरह लगती
कभी फायदे की कभी घाटे की तरह लगती

आस के फूल हर शाख पे खिलने दो
टूटी आस चुभते हुए काटें की तरह लगती

वक़्त की मार से कब कौन बचा यारों
कभी मुक्के तो कभी लातों की तरह लगती

ख्वाइश से उगती खवाइश का खेल ज़िंदगी’अरमान’
कभी चुप तो कभी चीखते सनाटे की तरह लगती

ज़िंदगी कभी गूंथे हुए आटे की तरह लगती
कभी फायदे की कभी घाटे की तरह लगती
राजेश ‘अरमान’

Related Articles

ये ख्वाइशें

रेत के महलों की तरह ,हरदम ढहती है ये ख्वाइशें फिर भी हर पल क्यों सजती सवरती है ये ख्वाइशें उम्मीदे इन्ही ज़िंदा रखती सांसों…

Responses

New Report

Close