गम की फसलें सींचता

गम की फसलें सींचता
आँखों की बारिश से
हर ख्वाब ने दम तोडा
अपनी ही गुजारिश से
राजेश’अरमान’

Related Articles

Responses

New Report

Close