जब था वक्त

जब था वक्त
तब किसी की ना मानी
जब ना अब वक्त
तब ना किसी की मानी

…… यूई

Related Articles

“बिटियाँ . . .”

रब का अनमोल वरदान बिटियाँ हैं | ज़ैसे की, तुफ़ान से टकराता दिया हैं | रिश्तों के मोती तो अक़्सर बिख़र ज़ाते, मगर, दो परिवारों…

Responses

New Report

Close