तुम्हें आना पड़ेगा

तुम्हें भारी पड़ेगा
तैरना ऊपर सतह पर,
रत्न मिलते नहीं भटकन वहां पर।
रत्न मिलते हैं गहराइयों में,
तुम्हे आना पड़ेगा, ह्रदयतल में उतरकर।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - January 7, 2021, 9:19 pm

    अतिसुंदर भाव

Leave a Reply