बचपन की यादें

ऐ मेरे स्कूल मुझे,
जरा फिर से तो बुलाना…

कमीज के बटन
ऊपर नीचे लगाना,
वो अपने बाल
खुद न काढ़ पाना,
पी टी शूज को
चाक से चमकाना,
वो काले जूतों को
पैंट से पोंछते जाना…

? ऐ मेरे स्कूल मुझे,
जरा फिर से तो बुलाना…

? ? ? ? ?

वो बड़े नाखुनों को
दांतों से चबाना,
और लेट आने पर
मैदान का चक्कर लगाना,
वो प्रेयर के समय
क्लास में ही रुक जाना,
पकड़े जाने पर
पेट दर्द का बहाना बनाना…

? ऐ मेरे स्कूल मुझे,
जरा फिर से तो बुलाना…

? ? ? ? ?

वो टिन के डिब्बे को
फ़ुटबाल बनाना,
ठोकर मार मार कर
उसे घर तक ले जाना,
साथी के बैठने से पहले
बेंच सरकाना,
और उसके गिरने पे
जोर से खिलखिलाना…

? ऐ मेरे स्कूल मुझे,
जरा फिर से तो बुलाना…

? ? ? ? ?

गुस्से में एक-दूसरे की
कमीज पे स्याही छिड़काना,
वो लीक करते पेन को
बालों से पोंछते जाना,
बाथरूम में सुतली बम पे
अगरबत्ती लगाकर छुपाना,
और उसके फटने पे
कितना मासूम बन जाना…

? ऐ मेरे स्कूल मुझे,
जरा फिर से तो बुलाना…

? ? ? ? ?

वो Games Period
के लिए Sir को पटाना,
Unit Test को टालने के लिए
उनसे गिड़गिड़ाना,
जाड़ो में बाहर धूप में
Class लगवाना,
और उनसे घर-परिवार के
किस्से सुनते जाना…

? ऐ मेरे स्कूल मुझे,
जरा फिर से तो बुलाना…

? ? ? ? ?

वो बेर वाली के बेर
चुपके से चुराना,
लाल–पीला चूरन खाकर
एक दूसरे को जीभ दिखाना,
खट्टी मीठी इमली देख
जमकर लार टपकाना,
साथी से आइसक्रीम खिलाने
की मिन्नतें करते जाना…

? ऐ मेरे स्कूल मुझे,
जरा फिर से तो बुलाना…

? ? ? ? ?

वो लंच से पहले ही
टिफ़िन चट कर जाना,
अचार की खुशबू
पूरे Class में फैलाना,
वो पानी पीने में
जमकर देर लगाना,
बाथरूम में लिखे शब्दों को
बार-बार पढ़के सुनाना…

? ऐ मेरे स्कूल मुझे,
जरा फिर से तो बुलाना…

? ? ? ? ?

वो Exam से पहले
गुरूजी के चक्कर लगाना,
लगातार बस Important
ही पूछते जाना,
वो उनका पूरी किताब में
निशान लगवाना,
और हमारा ढेर सारे Course
को देखकर सर चकराना…

? ऐ मेरे स्कूल मुझे,
जरा फिर से तो बुलाना…

? ? ? ? ?

वो farewell पार्टी में
पेस्ट्री समोसे खाना,
और जूनियर लड़के का
ब्रेक डांस दिखाना,
वो टाइटल मिलने पे
हमारा तिलमिलाना,
वो साइंस वाली मैडम
पे लट्टू हो जाना…

? ऐ मेरे स्कूल मुझे,
जरा फिर से तो बुलाना…

??????

वो मेरे स्कूल का मुझे,
यहाँ तक पहुँचाना,
और मेरा खुद में खो
उसको भूल जाना,
बाजार में किसी
परिचित से टकराना,
वो जवान गुरूजी का??
बूढ़ा चेहरा सामने आना…
तुम सब अपने स्कूल
एक बार जरुर जाना…

?? जयहिंद ??

प्रस्तुति – रीता जयहिंद

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

अ–परिभाषित सच !

॥ बेटी के लिए एक कविता ॥  “अ—परिभाषित सच !” डरते—सहमते—सकुचाते मायके से ससुराल तक की अबाध—अनिवार्य यात्रा करते हुए मैंने; गांठ बांधी पल्लू से…

Responses

New Report

Close