मेरी जिंदगी

मेरी जिंदगी अब उलझ गई
मेरी हर खुशी अब बिखर गई २
अब क्यों मैं करू किसी से गिला
जो था किस्मत में वही तो मिला
जो…….था किस्मत में …….वही तो मिला
.
.
.
इस दुनियाँ से कुछ ना चाहूँ
मेरे रब से बस इतना पूछना चाहूँ
मेरा रब क्यों तु मुझसे रूठा लगे
मेरा हर सपना अब टूटा लगे
मैं गाऊँ अगर कोई गीत तो सब झूठा लगे
मेरी जिंदगी अब उलझ गई
मेरी हर खुशी अब बिखर गई
मेरी हर खुशी अब ……..बिखर गई


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 17, 2019, 11:50 pm

    वाह जी वाह

Leave a Reply