मैदान ए जंग

ज़िन्दगी की जंग के मैदान में,
तुम भी खड़े हो मैं भी खड़ी हूँ।
फ़र्क है तो इतना की मैं किसी को मारना नहीं चाहती,
और तुम किसी और से मरना नहीं चाहते।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. राही अंजाना - June 30, 2018, 3:53 pm

    Waah

  2. Neha - July 1, 2018, 10:51 am

    Nice

  3. bhoomipatelvineeta - July 1, 2018, 10:56 am

    Thank u

Leave a Reply