राम

दीन दयाल प्रनत पालक
दीन बंधू हे राम

जन्मूँ या मरुँ
परे तुम्ही से काम

-विनीता श्रीवास्तव(नीरजा नीर)-

Related Articles

MERA KUCH BHI NAHI HAIN

मेरा कुछ भी नहीं है, मुझमें राम सब-कुछ तेरा ही तेरा है राम बस देना साथ हमें सदा राम हम हैं तुम्हारे, तुम हो हमारे…

Responses

New Report

Close