समेटे हुए

समेटते हुए ,
आ रहे हैं हम,
आज भी ,
उन दिल के टुकड़ों को,
जो वर्षों पहले टूटा था।

Related Articles

*मिलन*

*****कल रात***** शनि का बृहस्पति से हुआ मिलन, चार सौ वर्षों के बाद, दो दोस्तों की दूरी मिटी, दोनों ने किया आलिंगन चार सौ वर्षों…

आजादी

आजादी के इतने वर्षों बाद भी, आजादी को हम जूझ रहे आज भी ।। कभी नक्सलियों, आतंकियों से आजादी, कभी रिश्वतखोरों, भ्रष्टाचारियों से आजादी ।…

बसता है कहीं

गर कोई मुझसे पूछे कभी बता मन तेरा बसता है कहीं झट से मैं बोल दूं मगधेश की गौरवमई परम्परा समेटे है जहां बस वहीं।।…

Responses

New Report

Close