सेना का सम्मान

समस्त देश आज सेना के सम्मान में खड़ा है।
पता नहीं तू किस मानसिकता से विरोध में अड़ा है।

राजनीति के मौके, और भी आएंगे भविष्य में,
विरोधाभास भूल प्रमाण दो, हृदय तुम्हारा भी बड़ा है।

चाटुकारों की चाटुकारिता भी, चरम पर है आज,
‘सरगना’ से भी ज्यादा ज्ञान, इनके खजानों में पड़ा है।

सेना की शौर्यता पर, प्रश्न चिन्ह उठाने वालों,
देश के लिए वो कल भी लड़ा है, और आज भी लड़ा है।

देवेश साखरे ‘देव’


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - June 22, 2020, 4:55 pm

    Sunder

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - June 27, 2020, 8:00 am

    बेहतरीन

  3. Abhishek kumar - July 10, 2020, 11:16 pm

    👌

  4. Abhishek kumar - July 31, 2020, 2:38 am

    जय हिंद जय भारत

Leave a Reply