‘हर अश्क सोख लेता है…………….

‘हर अश्क सोख लेता है वो आंख से मेरे,
रोने भी नहीं देता मुझे,  दर्द का सहरा…।’
………………………………………..सतीश कसेरा

Related Articles

Responses

New Report

Close