गजल

गजल

……………गजल………….
हम समंदर को समेटे चल रहे है
ठंडे पानी में भी हम उबल रहे है !
दुश्मनों के पर निकलते जा रहे है
देख अपनो की खुशी हम जल रहे है ||

है बडी मुश्किल उन्हे समझाये क्या
जो नादानों की तरह बस पल रहे है |
ये उन्हे शायद नही मालूम हो
हम तो उनके ही सदा कायल रहे है ||

आईनों से क्या करे शिकवा कोई
दाग ही चेहरे से नही निकल रहे है |
गैर तो मतिहीन होते गैर है लेकिन
आज अपनो को ही अपने छल रहे है
उपाध्याय…


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Anika Chaudhari - July 28, 2016, 1:16 pm

    अतिउत्तम सर जी

Leave a Reply