प्यार का इज़हार होने दीजिए

प्यार का इज़हार होने दीजिए।
गुल चमन गुलजार होने दीजिए।

खास हो एैसा ही, कोई पल दे दो,
वक्त को हम – राज होने दीजिए।

हो सदा वचनों में इक नव सादगी ,
प्यार काे अनुराग होने दीजिए।

कर करम एैसा भी कोई तो यहां,
मसखरा अब तुम न होने दीजिए।

दिल मिले हसरत हे योगेन्द्र मेरी
हो सके तो प्यार होने दीजिए।

योगेन्द्र कुमार निषाद
घरघोड़ा,छ०ग०
7000571125

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

6 Comments

  1. Priya Gupta - March 11, 2018, 8:52 am

    जिंदगी के गमों से घबराईये जनाब
    गमों को गुलजार होने दीजेये

    • Yogi Nishad - March 13, 2018, 12:33 pm

      वाहहहहह क्या बात
      बेहतरिन
      धन्यवाद

  2. Priya Gupta - March 11, 2018, 8:52 am

    nice

  3. Panna - March 11, 2018, 9:01 am

    बहुत खूब…
    अभी ये तो हमारी पहली मुलाकात है
    इस मुलाकात का असर होने दीजिए

  4. राही अंजाना - July 31, 2018, 10:53 pm

    Waah

Leave a Reply