Shayari

लिख कर बयां नहीं हो सकता वो एहसास
याद करो, जो नज़रें आपस में कह गयीं


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Dev Rajput - June 11, 2016, 4:51 pm

    Nice

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 9, 2019, 7:09 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply