आज हर शख्स गुमशुदा है ,बैंक के बाहर।

कल कुछ अलग से अनुभव हुए बैंक के बाहर।
कविता के माध्यम से करते हैं शेयर आपके साथ।

आज हर शख्स गुमशुदा है ,बैंक के बाहर।
छोड सब काम छूट्टे के जुगाड में लगा था।
बैक का माहौल गमगीन नहीं, उत्सव सा हसीन था।
हर शख्स हैसियत से मुक्त, छुट्टे की ताक में तल्लीन,
लाइन में सब बराबर,ना अमीर ना गरीब।
हिन्दू ना मुस्लिम,ब्राहमण ना अछूत।
सब बस एक ही सूत्र में ,एक ही जनून।
भेदभाव लेसमात्र नहीं,समसता उतरी जमीं ,
ऐसे लाइन मे तल्लीन ,कि अहसास ही नहीं ,
कि कोई परिचित,जो कभी जाने जिगर थी।
मुद्दतों बाद वो बैंक में लाइन म़े लगी मिली,
होता कोई और दिन हम आगे पीछे दौडते।
अब आज मौहब्बत तकै, कि नोट बदलें।
दिल को कर मजबूत हम नोट की उलझन मे डूबे,
कि हुई घोषणा बैंक में नोट खत्म हुए।
सुबह से हो गयी दोपहर,भूखे प्यासे स्वस्थ, बीमार,
घोषणा से सभी हुए मायूस।
हमने सोचा चलो ,
अब आँखों को ही सैेकने का काम कर लेते हैं,
चलो आज का दिन यूँ ही सार्थक कर लेते हैं।
दिखी अरसे बाद जो मोहतरमा ,
उनसे ही आँखे चार कर लेते हैं।
दे गया गच्चा यहाँ भी नसीब।
बेवफा कह जा चूकी थी नाजनीन।
वाह री किस्मत ,वाह मोदी जी,
जय मेरे भारत महान ।
सावित्री राणा
काव्य कुँज।

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

Responses

New Report

Close