कालेज का पहला दिन

कविता- कालेज का पहला दिन
—————————————–
कालेज का,
पहला दिन,
एक अनजाने से ,
पहचान हुई,
पता नहीं था ,
उसके बारे में-
फिर भी दिल के,
पास हुई,
दिल का धड़कना,
बढ़ गया मेरे,
जब उसकी नजरें,
मेरे चेहरे पर हुई|
झूठ हसी-
हसता चेहरा बनाया,
डरता था मन ही मन,
कहीं कुछ बोल न दे,
मै घायल हुआ-
जब उसने,
चेहरे पर मुस्कान दिखाया,
मै सरमाया वो सरमाई,
झट हमने नजर हटाया|
फिर जाते अपनी अपनी कक्षा में,
“ऋषि” ढ़ुढ़े दोपहर कि छुट्टी मे,
कभी इस कमरे से उस कमरे तक,
ढुढ़ रहा हूँ-
खड़े खड़े कालेज के प्रागंण में|
——————————————
***✍ऋषि कुमार “प्रभाकर”——


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - October 12, 2020, 8:05 am

    बहुत खूब

  2. Geeta kumari - October 12, 2020, 8:50 am

    सुन्दर प्रस्तुतिकरण

  3. Suman Kumari - October 12, 2020, 12:09 pm

    बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति

Leave a Reply