खजालत का ढोंग

मान लिया खुद को खुदा
ले आलम को आगोश में
वो खाता खा गए
खजालत के ढंग मे

खजालत-लजजा

Related Articles

Responses

New Report

Close