चाय हटा लो

कविता- चाय हटा लो
—————————
माफी देकर,
गले लगा लो,
दुख होता हैं,
होठ से अपने,
चाय हटा लो|
जो हक मेरा हैं,
कुल्हड़ क्यूं छीन रहा,
देख देख रोते हैं,
कुल्हड़ मन माना,
होठों से चिपक रहा|
मत बे दर्द बनों,
हें मिट्टी के बर्तन,
तरस खाओ हम पर भी,
हम भी मिट्टी के बर्तन|
हममें तुममें
अन्तर इतना,
हमसे जलकर दूर रहें,
तुमसे जलकर पास रहें,
कह देना,
होठ से उसके,
हक मेरा नहीं,
उसका हैं|
छोड़ दो मुझको,
अपना लो उसको,
पल भर के लिए ,
हम साथ तुम्हारे,
अपना लो उसको,
कई जन्म का रिश्ता होगा |
—————————–
**✍ऋषि कुमार ‘प्रभाकर’


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

7 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 4, 2020, 8:47 pm

    सुंदर

  2. Geeta kumari - November 4, 2020, 9:08 pm

    बहुत ख़ूब

  3. Pragya Shukla - November 5, 2020, 12:09 pm

    अति सुंदर रचना
    यह कविता पढ़कर मन भर आया

  4. vivek singhal - November 5, 2020, 11:19 pm

    बहुत खूब भाई..
    सही जा रहे हो

  5. Dhruv kumar - November 8, 2020, 9:48 am

    Nyc

Leave a Reply