जवानी हाय इठलाने लगी है

जवानी हाय इठलाने लगी है
जुबां पे आह सी आने लगी है

हमारी चाह भडका के अदाये
तुफानी प्रीत भडकाने लगी है

उठी है प्रीति अंग-अंग मे नशीली
खिला के राग चहकाने लगी है

हया ऊठा के रग-रग मे सदायें
नवेली रीति दे जाने लगी है

नई आहे दिखा के जोश लावे
तुफां ताने जुबां पे गाने लगी हैं
✍ श्याम दास महंत✍

(दिनांक 19-06-2028)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. देव कुमार - June 20, 2018, 12:32 am

    Asm post Sir

  2. राही अंजाना - July 10, 2018, 11:44 pm

    Waah

Leave a Reply