जिंदगी इक तमाशा

जिंदगी इक तमाशा है
तमाशा वेखण आया ऐ बंदिया तु
वेख जी भरके ज़माने दे रंगां नु
पर किसे दा तमाशा बनावी ना
ते आपनां भी विखावी ना।

Related Articles

देश दर्शन

शब्दों की सीमा लांघते शिशुपालो को, कृष्ण का सुदर्शन दिखलाने आया हूं,                                  मैं देश दिखाने आया हूं।। नारी को अबला समझने वालों को, मां…

Responses

    1. बहुत बहुत आभार
      आशा करती हूँ आपके मार्गदर्शन से निखार आएगा।

  1. जिंदगी इक तमाशा है
    वाह अनु जी ज़िन्दगी की परिभाषा व्यक्त करती हुई बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति। उत्तम लेखन

New Report

Close