ठिठोली

[बुरा न मानो होली है ….. शुभकामनाओं सहित ]

आया जोबना पे कैसा उभार दैया ।
गोरी कैसे सम्हालेगी भा…र दैया ।।
पूनम के चांद–सा रूप खिला रे !
क़दरदान कोई न यार मिला रे !!
छलक—छलक जाए हंसी
होठों—–पे-—प्यास—बसी
नैनों का निराला व्यापार दैया ।
गोरी कैसे सम्हालेगी भा..र दैया ।।

गोरी सम्हाले रूप ; बिखर-बिखर जाए रे !
हूक उठे जियरा में -– होंठों पे हाय , रे !!
भंवरे बेचैन हैं ; मधु—पान को
भटक रहे गली–गली कुर्बान हो
इश्क़ बिना हुस्न तो बेकार दैया ।
गोरी कैसे सम्हालेगी भा..र दैया ।।

बची–बची फिरती है ; तीरे–नज़र से
कोठे से झांके—-कभी नीचे उतर के
कई दिल कदमों में ; उसके पड़े हैं,
आया नहीं–नैन उसके; जिससे लड़े हैं
उम्र से भी लम्बा इन्तज़ार दैया ।
गोरी कैसे सम्हालेगी भा..र दैया ।।

इठलाती–बलखाती चलती है—रूकती है
जोबना के भार लदी बार–बार झुकती है
अंगड़ाई ले ले तो ; बिजली चमक जाए
फागुन में पलास–सी ; गोरी ग़मक जाए
देखे करके जतन भी हज़ार दैया ।
गोरी कैसे सम्हालेगी भा..र दैया ।।

कसी–कसी चोली है , ढीला—ढाला लंहगा है
हुस्न बे–मिसाल उसका ; इश्क बड़ा मंहगा है
हाय—हाय चारों तरफ कैसी तबाही है
गली–गली मजनूं हैं;शामत सी आई है
करे वो किस–किसका ऐतबार दैया ।
गोरी कैसे सम्हालेगी भा….र दैया ।।

सागर की मौजों सी इठलाती हाय राम !
रस बरसे गोरिया के रंग-ढंग से अविराम
फूटे बसंत जैसे अंग—–अंग से
टूटते कग़ार; कपड़े तंग–तंग से
इसको है समझाना बेकार दैया ।
गोरी कैसे सम्हालेगी भा..र दैया ।।

 

 

 

 

 

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

Responses

    1. Thnks Ankitji. I am sorry to repply so late. It was just a fun on the holly occassion.We all enjoy holly as a fastival of colour & joy; as you know well. Holy is the fastival of love and life——nothing less.

New Report

Close