नव वर्ष

“नव वर्ष की शुभकामनाएं ”
—————————
नव वर्ष की शुभकामनाएं /
बच्चों में उत्साह जगाएं |
प्रांगन मंदिर संस्कृति अपनाएँ /
देवी को सुमधुर गीत सुनाएँ ||

भगवा ध्वज की पताकायें |
तिलक चन्दन टीका लगाएं ?
नव वर्ष धूम से मनाएं |
देवी को सुमधुर गीत सुनाएँ ||

शंख ध्वनि मृदंग बजाएं /
पुरुषोत्तम राम को याद दिलायें |
विक्रमादित्य का विक्रमी मनाएं /
देवी को सुमधुर गीत सुनाएँ ||

डा ० केशव राव जयंती जगाएं |
झूले लाल को भी ना भुलाएँ /
नव वर्ष की शुभकामनाएं |
देवी को सुमधुर गीत सुनाएँ || –
सुखमंगल सिंह

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. राही अंजाना - February 18, 2019, 9:17 am

    वाह

    • Sukhmangal - July 30, 2019, 6:09 am

      धन्यवाद ,आभार आदरणीय राही अंजाना जी

Leave a Reply