भव-बंधन हारे

भव-बंधन हारे
पार करो अब नईया मेरे
तुझ से ही अब सब कुछ मेरा
मुझमें नहीं रहा अब कुछ तेरा
—————————–
भव-बंधन हारे
पार करो अब नईया मेरे ।।1।।
—————————————–
तुझमें समर्पित मैं,
मुझमें समर्पित तुम,
फिर क्यूँ मन-माया नचाती हमें
——————————————-
भव-बंधन हारे
पार करो अब नईया मेरे ।।2।।
———————————————
हम तुम एक हैं मगर
तुझमे शक्ति है दुनिया की चलानी की,
हम तेरा दास विकास है,
अबकी बार भव-पार कर दो, तुम्हीं गणिका के राम हो ।।
—————————————–
भव-बंधन हारे
पार करो अब नईया मेरे ।।3।।
राम भक्त विकास कुमार


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Suman Kumari - January 30, 2021, 12:29 am

    सुंदर

  2. Geeta kumari - January 30, 2021, 10:15 am

    Nice

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - January 30, 2021, 9:02 pm

    बहुत खूब

Leave a Reply