भोजपुईर देवी गीत 5- डाली दा नजरवा |

भोजपुईर देवी गीत 5- डाली दा नजरवा |
अइली चनरनवा माई डाली दा नजरवा |
टूटल हमरा दुख के पहड़वा |

रानी महारानी माई दानी तू कहालू हो |
दयालु कृपालु माई काली तू कहालु हो |
लागल हमरो अरमनवा भरी दा चदरवा |
अइली चनरनवा माई डाली दा नजरवा |

अंधरा के आँख बांझन के पुत्र तू देलु हो |
कोढ़ियन के काया निर्धन के माया देलु हो |
करेला जय जयकर गाँव पूरा नगरवा |
अइली चनरनवा माई डाली दा नजरवा |

जगजननी माभवानी लोगवा कहेला हो |
हो जाला उद्दार उनकर माई जे पूजेला हो |
दे दा शरनिया देवी अपने पजरवा |
अइली चनरनवा माई डाली दा नजरवा |

श्याम कुँवर भारती [राजभर] कवि ,लेखक ,गीतकार ,समाजसेवी ,
मोब /वाहत्सप्प्स -995550928

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

6 Comments

  1. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 4, 2019, 9:14 am

    वाह बहुत सुंदर रचना

  2. nitu kandera - October 4, 2019, 10:14 am

    Nice

  3. Poonam singh - October 4, 2019, 10:42 am

    Nice

  4. NIMISHA SINGHAL - October 4, 2019, 11:44 am

    उम्दा

  5. राम नरेशपुरवाला - October 4, 2019, 1:22 pm

    ये तो समझ नहीं आया

Leave a Reply