भोजपुरी कविता – तड़पत रही हम दिनरात |

भोजपुरी कविता – तड़पत रही हम दिनरात |
रिमझिम बरसत बा बरसात |
तड़पत रही हम दिनरात |
पिया बिना बुनीया ना सुहात |
तड़पत रही हम दिनरात |
गरजत बरसत अईले असढ़वा |
लहकत दहकत हमरो जियवरवा |
कही हम केकेरा से दिलवा के बात |
तड़पत रही हम दिनरात |
चमके बिजुरिया गगनवा मे |
अगिया लगे हमरे तनवा मे |
पिया परदेशी हाली घरवों ना आत |
तड़पत रही हम दिनरात |
झमझम अंगना बरसेला पानी |
टपटप चुएला टूटल दलानी |
निर्मोही बलम दरदियो ना बुझात |
तड़पत रही हम दिनरात |
मखमल के सेजिया मे कंटवा गड़ेला |
बरिस बरिस के पोसल देहीया गलेला |
भिंगल भुईया मोर पउया बिछलात |
तड़पत रही हम दिनरात |

श्याम कुँवर भारती (राजभर )
कवि/लेखक /समाजसेवी
बोकारो झारखंड ,मोब 9955509286


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - June 17, 2020, 10:58 pm

    Nice

  2. Abhishek kumar - July 10, 2020, 11:51 pm

    त्रुटियाँ हैं पर भाव अच्छे हैं

Leave a Reply