भोजपुरी निर्गुण भजन 3 – सुगनवा जइहे |

भोजपुरी निर्गुण भजन 3 – सुगनवा जइहे |
बितली उमरिया मोर कइली ना करमीया थोर |
पपवा करमिया करे परेशान |
सुगनवा जइहे लगवा जब भगवान |
इ तनवा माटी हवे तनको ना विचार बाटे |
जगवा से मुहवा मोड़ माया इ संसार बाटे |
काहे पाछे पछतावा नाही मन भरमावा|
मन निर्गुण ब्रम्ह लगाके होजा तू इंसान |
सुगनवा जइहे लगवा जब भगवान |
दया दान कइला नाही रास रंग रहला चाही |
बात गुरु सुनला नाही मनमानी कइला चाही |
केहु ना सतावा कबों मनवा अबहिन जवान |
सस्ता सउदा पटाके बन जा तू धनवान |
सुगनवा जइहे लगवा जब भगवान |

श्याम कुँवर भारती (राजभर)
कवि /लेखक /गीतकार /समाजसेवी
बोकारो झारखंड मोब -9955509286

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

Responses

New Report

Close