मिल गया अंजाम मुझे तुमसे दिल लगाने का

मिल गया अंजाम मुझे तुमसे दिल लगाने का!
#दर्द मुझे होता है जैसे किसी परवाने का!
नाकामियों के आलम से परेशान हूँ मगऱ,
हौसला अभी बाकी है बेखौफ मुस्कुराने का!

Composed By #महादेव

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

अभी बाकी है

https://ritusoni70ritusoni70.wordpress.com/2016/08/12 जीने की लय में, अभी सरगम बाकी है, बारिशो के बाद, इन्द्रधनुषी छटा आती है, चकाचौंध रोशनी न सही, अभी झरोखों से किरण आती…

Responses

New Report

Close