मुक्तक

तेरे लिए मैं तो भूला हूँ जमाने को!

यादें ले आती हैं गुजरे अफसाने को!

तेरा जिक्र आता है जब किसी महफिल में,

दर्द खोज लेता है मेरे ठिकाने को!

 

रचनाकार- मिथिलेश राय #महादेव’


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Lives in Varanasi, India

Related Posts

मुक्तक

मुक्तक

मुक्तक

मुक्तक

1 Comment

  1. Atul Jatav - August 7, 2016, 8:14 pm

    Nice mithilesh ji

Leave a Reply