मेरी लाडली री बनी

मेरी लाडली री बनी है तारों की तू रानी
नील गगन पर बादल डोले, डोले हर इक तारा
चांद के अंदर बढ़िया डोले ठुमक-ठुमक दर-द्वारा
कमला गाए बिमला गाए, गाए कुनबा सारा
घूँघट काढ़ के गुड़िया गाए, झूले  गुड्डा प्यारा
बटलर नाचे, बैरा नाचे, नाचे मोटी आया
काले साहब का टोपा नाचे, गोरी  मेम का साया
मेरी लाडली री बनी है तारों की तू रानी
Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

I love Poetry !!

3 Comments

  1. Mohit Sharma - October 26, 2015, 11:30 am

    nice

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 11, 2019, 10:57 pm

    बहुत सुंदर रचना ढेरों बधाइयां

Leave a Reply