मेरे रंग

मेरे रंग धरे के धरे ही रह गए
वो आये और मेरी बेचैनी बढ़ा के चल दिए

Related Articles

Responses

New Report

Close