– मैंने व्यर्थ ही जिन्दगी गँवायो रे!

मैंने व्यर्थ ही जिन्दगी गँवायो रे!
कभी राम नाम लिया तो नहीं ।
मैंने व्यर्थ ही जिन्दगी गँवायो रे!
नर तन लेकर इस जहां में
आया नारायण को पाने को ।
भोग-विलास में रमा रहा ।
याद न आया कभी नारायण को ।।
मैंने व्यर्थ ही जिन्दगी गँवायो रे!
कभी राम नाम लिया तो नहीं ।
मिथ रिश्ते-नातें में मैं यूँही बँधा ही रहा ।
कभी साँचा रिश्ता याद आया ही नहीं ।।
मैंने व्यर्थ ही जिन्दगी गँवायो रे!

कभी राम नाम लिया तो नहीं ।।
मोह-माया के इस जन-जाल में
मैं यूँही जकड़ा ही रहा ।
कभी राम नाम सुमिरा तो नहीं ।।
मैंने व्यर्थ ही जिन्दगी गँवायो रे!
कभी राम नाम लिया तो नहीं ।।
आस-निरास के बंधन में यूँही बँधा ही रहा ।
कभी श्रद्धा और विश्वास में रमा तो नहीं ।
शिव-पार्वती को सुमिरन कभी किया तो नहीं ।
मैंने व्यर्थ ही जिन्दगी गँवायो रे!
कभी राम नाम लिया तो नहीं ।।
 विकास कुमार

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

Responses

New Report

Close