मोहब्बत हो जाय तब देखेंगे

मोहब्बत हो जाय तब देखेंगे ,
तेरा नाम भी लिखकर मिटाकर देखेंगे ।
तेरी यादों के साये जब घेरेंगे मुझे
घर के चिराग बुझाकर जलाकर देखेंगे ।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Hurt me with truth, but never comfort me with a lie..

Leave a Reply