‘मौसम और वो’

काली घटायें हैं बादल में ,
धीमी हवायें हैं सागर में ,
भीनी सुगन्ध है माटी की ,
करती आकर्षित घाटी को,
तुम कहाँ छुपे हो इस पल में ,
जब पुरानी यादें हैं आँचल में,
अब काली घटायें भी नहीं रहीं ,
सागर भी उठ के सिमट गया,
जाने वाले सब चले गये ,
पर याद तेरी क्यों जाती नहीं,
हवायें थी घटायें थी ,
थी तेरे न होने की तन्हाई भी ,
आवाम भी थी आवाज भी थी ,
थी हवाओं की पुरवाई भी ,
कुछ बेगाने थे कुछ अपने थे ,
थे उनमें सिमटें कुछ सपने भी,

मन की सुन्दरता भी थी,                                                                                                                    तन में व्याकुलता भी थी,                                                                                                                मन व्याकुल था तुझसे मिलने को,                                                                                                   तेरे ख्वाबों में मर मिटने को,                                                                                                          तेरे दीदार का साया था मुझपे,                                                                                                    संसार समाया था तुझमें,                                                                                                                  जग को पाने की रार नहीं ,                                                                                                             तेरे जाने से हार हुई,                                                                                                                   अब इस पल में तुम कहाँ गयें ,                                                                                                     अब अन्तकाल में कहाँ गये,                                                                                                         तुमको खोजों मैं इधर उधर ,                                                                                                         तुम मिलते मुझको शहर शहर ,

– Ushesh

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

Responses

New Report

Close