यारी

बेखौफ है हम, देखो इस जहाँ से
जो संग मेरे तू है इतमिनान से
बीते साये में तेरे ये दिन
तुम्हें कह रहा हूँ यारा ईमान से
कहीं मुस्कुराहट है बिखेरती ,ये बिमारी
मेरी मुश्किलों को आसान कर रही, तेरी यारी
अब बिन तेरे दुनिया लगे ये ,न्यारी न्यारी
मुझपे चढी है दोस्ती की ये खुमारी

कभी रख सके जो, तेरे दिल पे हम कहीं
कुछ आहें ये मेरी, कुछ बात अनकही
इन बातों को तुम दफन कर लेना उस जगह
जहाँ ढूँढ फिर सके ,न तेरे सिवा कोई
पल-पल सताए पल-पल मनाए हमें ये दीवानी
विश्वास के पन्नों मे सिमटी तेरी मेरी कहानी

::कायल्पिक::
Happy friendship day
Like and share fb.me/kaaylpik

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

New Report

Close