#2linershayari कौन सी शाम

यह कौन-सी शाम है,
यह कौन-सी रात है।
जो न ढलती है,
जो न कटती है।
बिन तेरे यह जिंदगी हर-पल,
सिमटती है….

Related Articles

Responses

New Report

Close