lost relationships

0

 

ऐ दिल आ गुफ्तगू करते है कुछ

चल बता तू यूं उदास क्यूं है

जिन रिश्तों की कोई तवज्जो न थी तुझे

“सुथार” आज वो इतने खास क्यूँ है ।।

‪#‎suthars‬’

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Priya Bharadwaj - May 27, 2016, 12:01 pm

    nice lines

Leave a Reply