इतने हैं तेरे रूप के मैं सबको गिना नहीं पाउँगा,

इतने हैं तेरे रूप के मैं सबको गिना नहीं पाउँगा,

खोल कर रख दी पल्लू की हर एक गाँठ तुमने,

मैं तुम्हारे प्रेम का किस्सा सबको सुना नहीं पाउँगा,

डर कर छिप जाता था अक्सर तेरे पीछे,,
आज इस भीड़ में भी मैं तुझको भुला नहीं पाउँगा।।
राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

पिता

माँ

माँ

माँ

माँ

9 Comments

  1. mansi - May 6, 2018, 12:39 pm

    bhut khoob

  2. Neetu - May 9, 2018, 7:44 pm

    Bht acha likha h..

  3. Ravi - May 12, 2018, 2:25 pm

    Waah

  4. Shruti - May 12, 2018, 2:51 pm

    Waah

  5. राम नरेशपुरवाला - September 11, 2019, 11:10 pm

    Good

Leave a Reply