ओज कविता – बिरो की धरती भारत |

ओज कविता – बिरो की धरती भारत |
बिरो की धरती भारत बिरो से कभी खाली न होगी |
राष्ट्र पर प्राण करेंगे न्योछावर जननी सवाली न होगी |
भ्रमजाल मायाजाल लोभ लालच मे कभी आएंगे नहीं |
डर भय मोह ममता वस रन छोड़ कभी भागेंगे नहीं |
जलती रहेगी मसाल देश भक्ति कभी खाली न होगी |
तन जाये तोपे मिसाइल बंदुके बीरो डरना आता नहीं |
रण ललकारे हिन्द की सेना पीठ दिखाना आता नहीं |
राम कि धरती दुशमन पर हो विजय दिवाली न होगी |
कितना गिनाऊ विरो की गाथा रामायण लिख जाएगी |
लक्ष्मी राणा चौहान नाम लिखने कलम घिस जाएगी |
अर्जुन भीम भिस्म बिरो धरती कभी खाली न होगी |
फड़कती है भुजाए दुशमन की सुनकर ललकार सदा |
जवाने हिन्द है शेरे हिन्द करते शेरो की हुंकार सदा |
लूटा देंगे जान जमी पर क्यो फिजा मतवाली न होगी |
एक दो नहीं सभी लाल करे बलिदान जननी भारत की |
बहने भाई नारिया सिंदूर करे कुर्बान हो रक्षा भारत की |
रक्त रंजीत हो करे सिंगार क्यो धरती लाली न होगी |

श्याम कुँवर भारती (राजभर)
कवि /लेखक /गीतकार /समाजसेवी
बोकारो झारखंड मोब -9955509286

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

Responses

New Report

Close